क्या पढ़े क्या ना पढ़े का करे चुनाव

समय के साथ बदलाव जरूरी हैं।

दोस्तों समय के साथ आपने देखा होगा कि आज प्रत्येक जगह परिवर्तन आ रहा है। समय बड़ी तेजी से बदल रहा है।पहले के समय मे और आज के समय में comptition में भी बहुत अंतर आया है।अगर हम कुछ example से समझना चाहें तो हम देखेंगे की फेल के cricket के खेलने के तौर तरीके मे भी परिवर्तन आया है।ऐसे ही exam के pattern,competition, syllabus और preparation में भी बहुत परिवर्तन आया है।आप देखेंगे कि जब आप प्राइमरी स्कूल मे पढ़ते थे तो syllbus कुछ और था।इसलिए आज के समय में हमको भी एग्जाम पास करने के लिए एक अलग रणनीति की जरूरत होगी।

SMART STUDY करने की है जरूरत।आज के समय में हमको यदि COMPETITIVE EXAM को पास करना है तो हमको सबसे पहले कुछ हट के अपनी स्टडी को एक धार देनी होगी क्यों कि आज के समय COMPETITION इतना अधिक बढ़ गया है कि एक एक अंक की कीमत है ऐसे मे हमको यदि सफलता प्राप्त करनी है तो हमको smart study करनी होगी।जिस का मूल मंत्र है की हमको ये भी देखना होगा कि क्या पढ़ना है और क्या नहीं पढ़ना है का भी ठीक तरीके चयन करें।

अनेक छात्र छात्राओं को खास तौर पर छोटे कस्बे और ग्रामीण परिवेश के छात्रों को अच्छे मार्गदर्शन का अभाव रहता है और ऐसे में वो मेहनत तो बहुत ज्यादा करते हैं किंतु उनको सफलता प्राप्त नहीं हो पाती हैं उनका परिश्रम व्यर्थ चला जाता हैं जब भी ऐसे छात्र छात्राएं examination hall से बाहर निकलते हैं तब उनके चेहरे पर एक अवसाद नजर आता है और एक प्रश्न उनके दिलों दिमाग में बार बार आता है कि इतनी मेहनत के बाद भी पता नहीं क्वेश्चन पेपर में आए question कहां से आ गए ये तो मैने कभी पढ़े ही नहीं आखिर अब कहां से और कैसे तैयारी करूं कि सफलता प्राप्त हो जाए।

upsc हो या अन्य कोई भी exam syallbus को ना करें इग्नोर

आपने देखा होगा कि हम अपने ब्लॉग में सेलेब्स और old question papers पर बहुत अधिक जोर देते हैं क्यो कि आप जानते हैं किसी भी एग्जाम की तैयारी का पहला कदम ही उसका syallabus हैं बहुत से छात्र छात्राएं कहते हैं कि आज कल तो एग्जाम पैटर्न ऐसा हैं कि सब कुछ syllbus से बाहर का आता है जबकि ऐसा नहीं है किसी भी question paper को बनाते समय ssyllbus को ही ध्यान में रखकर ही question paper तैयार किया जाता हैं।और जो भी हो स्टूडेंट के पास तो यही विकल्प रह जाता है कि वो syallbus को इग्नोर न करें syllbus आपकी मंजिल तक पहुंचने का रास्ता दिखाता है।और पुराने question papers आपके मंजिल पर पहुंच ने के रास्ते पर दीपक का कार्य करते हैं।इसलिए ही जब आप इस मनःस्थिति में फंसे हों कि क्या किया जाए क्या पढ़ा जाए क्या नहीं पढ़ना है तो सबसे पहले आप इन दोनों syallbus ओर old question papers पर जरूर फोकस करे।कोई भी एग्जाम हो आपके पास उसका syllabus जरूर हो।आप चाहें तो online download कर लें,हमारी भी कोशिश हैं कि हम आपको अधिक से अधिक exams के syllabus उपलब्ध करा सकें और old question papers भी।जिस से आप को तैयारी करने मे मदद हों सकें।syllabus को छोटे छोटे टुकड़ों में बांट लें और उनको फिर उसके बाद अपनी तैयारी शुरू करें।आप देखेंगे कि जो दबाव आप महसूस कर रहे थे वो ऐसा करने से कम हो रहा है।कुछ छात्र तो exam की तैयारी शुरू कर देते है और उनके पास उस परीक्षा का syallbus ही नहीं होता है। जब भी आप optional subject UPSC की तैयारी कर रहे हैं तो आप के पास उसका syllbus जरूर हो क्यों कि general studies का syllbus तो आपको याद भी रह सकता है परंतु optional subject के सभी syllbus के टॉपिक आपको याद रहना मुश्किल है इसलिए ही हम syllbus पर इतना फोकस करते है।

smart study पर दे बल।

आज हम सब जानते है कि competition कितना ज्यादा बढ़ चुका है ऐसे में आप को यदि आगे निकलना है तो आप को smart study पर जरूर ध्यान देना चाहिए smart study कोई अलग प्रकार की पढ़ाई नहीं है ये तो बस अलग प्रकार से पढ़ने का तरीका मात्र है जो आपको बताएगा कि कैसे हम जल्दी सफलता प्राप्त करें और कैसे हम अधिक से अधिक marks प्राप्त कर सकें।आप जब भी कोई बुक खरीद कर लाते हैं तो सबसे पहले और दूसरे पेज पर index दिया होता है उसको पढ़े और देखे कि आप के एग्जाम का कितना प्रतिशत टॉपिक कवर हों रहा है आपको अपनी प्रत्येक बुक के index पर अपने पाठ्यक्रम के अनुसार निशान लगा लेने हैं कि कौन कौन से टॉपिक इस बुक से कवर हो रहे हैं।साथ ही साथ आप अपनी study को up to date करते रहें चाहे तो इंटरनेट के माध्यम से या अन्य कोई technology से।जो भी नई घटनाएं घट रही है उनसे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top